प्रसिद्ध काव्यांश

नवीन काव्यांश

छूट्यौ गृह काज लोक लाज मनमोहन कै

छूट्यौ गृह काज लोक लाज मनमोहन कै
   …

Read More
संभु धरै ध्यान जाको जपत जहान सब

संभु धरै ध्यान जाको जपत जहान सब
   …

Read More
जल की न घट भरैं मग की न पग धरैं

जल की न घट भरैं मग की न पग धरैं
   …

Read More
गोकुल को ग्वाल काल्हि चौमुँह की ग्वालिन सौं

गोकुल को ग्वाल काल्हि चौमुँह की ग्वालिन सौं Read More