काव्यांश (रचनाशैली - गजल )

इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है

इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है,
नाव…

Read More
कहाँ तो तय था चिरागाँ हरेक घर के लिए

कहाँ तो तय था चिरागाँ हरेक घर के लिए,
कहाँ…

Read More
काले-काले बादल छाये....

काले-काले बादल छाये, न आये वीर जवाहरलाल,
कैसे-कैसे…

Read More
किनारा वह हमसे ....

किनारा वह हमसे किये जा रहे हैं।
दिखाने को…

Read More
कैसे मंजर सामने आने लगे हैं

कैसे मंजर सामने आने लगे हैं,
गाते-गाते लोग…

Read More
गिराया है जमीं होकर...

गिराया है जमीं होकर, छुटाया आसमाँ होकर।
निकाला,…

Read More
बदली जो उनकी आँखें...

बदली जो उनकी आँखें, इरादा बदल गया।
गुल जैसे…

Read More
बाढ़ की सम्भावनाएँ सामने हैं

बाढ़ की सम्भावनाएँ सामने हैं,
और नदियों के…

Read More
भूख है तो सब्र कर, रोटी नहीं तो क्या हुआ

भूख है तो सब्र कर, रोटी नहीं तो क्या हुआ,
आजकल…

Read More
भेद कुल खुल जाय वह

भेद कुल खुल जाय वह सूरत हमारे दिल में है।
देश…

Read More
मत कहो, आकाश में कुहरा घना है

मत कहो, आकाश में कुहरा घना है,
यह किसी की…

Read More
ये रोशनी है हकीकत में एक छल लोगो

ये रोशनी है हकीकत में एक छल लोगो,
कि जैसे…

Read More
ये सारा जिस्म झुककर बोझ से दुहरा हुआ होगा

ये सारा जिस्म झुककर बोझ से दुहरा हुआ होगा,
मैं…

Read More
रोज जब रात को बारह का गजर होता है

रोज जब रात को बारह का गजर होता है,
यातनाओं…

Read More
वो निगाहें सलीब हैं

वो निगाहें सलीब हैं,
हम बहुत बदनसीब हैं।

 

आइए…

Read More
हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए,
इस हिमालय…

Read More